SLEEPLESS

Poem-Header-800x100-0073

मेरी खामोश निगाहों में,
कुछ अनकहे से अरमान हैं !
पलको की चादर ओढे हैं,
पर नींदों से अनजान हैं !


अपने खवाबो के उजाले से,
मेरी नजरें रोशन कर दे !
तू क्या जाने इन आँखों में,
कितनी रातों की थकान हैं !

 

26032014_David_Scanlon_Headshot_3

Parul Singhal – India – (1984 - )

Singhal. P (2017) Emotionally Exhausted: Random Realisations. The Foolish Poet Press, Wilmslow, England. SLEEPLESS. Page Number 13.

Poem-Header-800x100-0072

Print Friendly, PDF & Email
This entry was posted in Parul Singhal, Poetry and tagged , , , , , . Bookmark the permalink.