LONELINESS – सूनापन

Brushing her dark eye-shadow
Across twilight’s dusky eyes
Enlivens the excited stars,
The sky giving of her prize;

In the distance lost desires
A deep painful silence sighs!

Swaggering with a sullen sway
Sipping from her silver shrouds
Shapes a freshness in souls
Strung in garlands of clouds;

Balance from the echoing thunder
With a silent lightening of wonder!

In the dark empty courtyard
Night spreads her silent curls,
Held in the cold windless stir
Leaves drip tear-like pearls;
 
In the shivering vibrations streams
A blessing kiss of thirsty sunbeams!

A message from a distant past
Reminds the blowing showers
To use her breeze to gently touch
The sad eyes of the waking flowers;

A searching with a fake smile
Is an attempt, a reaching style!

In the silent plea of her eyes
Remain faded stains of tears,
The smiling pain within her lips
Release her ever deeper fears;

Oh, it is such, each living moment!
A souls loneliness in a deep lament.

 

Varma, M. (2018) Neehar, Translated by Parul Singhal & David Scanlon. The Foolish Poet Press, Wilmslow, England. LONELINESS - सूनापन. Page Number 21.

26032014_David_Scanlon_Headshot_3

David Scanlon
England
(1963 – )

Parul Singhal
India
(1984 – )

मिल जाता काले अंजन में
सन्ध्या की आँखों का राग,
जब तारे फैला फैलाकर
सूने में गिनता आकाश;

उसकी खोई सी चाहों में
घुट कर मूक हुई आहों में!

झूम झूम कर मतवाली सी
पिये वेदनाओं का प्याला,
प्राणों में रूँधी निश्वासें
आतीं ले मेघों की माला;

उसके रह रह कर रोने में
मिल कर विद्युत के खोने में!

धीरे से सूने आँगन में
फैला जब जातीं हैं रातें,
भर भरकर ठंढी साँसों में
मोती से आँसू की पातें;

उनकी सिहराई कम्पन में
किरणों के प्यासे चुम्बन में!

जाने किस बीते जीवन का
संदेशा दे मंद समीरण,
छू देता अपने पंखों से
मुर्झाये फूलों के लोचन;

उनके फीके मुस्काने में
फिर अलसाकर गिर जाने में!

आँखों की नीरव भिक्षा में
आँसू के मिटते दाग़ों में,
ओठों की हँसती पीड़ा में
आहों के बिखरे त्यागों में;

कन कन में बिखरा है निर्मम!
मेरे मानस का सूनापन!

Mahadevi Varma – India – (1907 – 1987)

Varma. M (1930) Neehar (नीहार). Gandhi Hindi Pustak Bhandar; Prayag.

Print Friendly, PDF & Email
This entry was posted in David Scanlon (Translations), Mahadevi Varma, Parul Singhal (Translations), Poetry, Translation and tagged , , , , . Bookmark the permalink.