THOSE EYES! TO DIE WITHOUT…..

जब मेरी तेरी बात हो, लब्ज़ों को आराम हो
बस आँखों ही आँखों में,अपनी दुआ सलाम हो

कभी दूर से देख के मुझको, मन ही मन मुस्काती है,
और बुलाती पास मुझे, पलकों के परदे सरकाती है
जैसे हर निमिष के संग, ढली सुबह से शाम हो

हर अच्छे-बुरे की समझ इन्हे, एक चुटकी में परख लेती है
करीब से छू के अंतर्मन को, हर भाव का रस चख लेती है
कोई जो इनको पीना चाहे, उसका तो काम तमाम हो

जब भी मनआँगन में गूंजी, बिजली सी बन कर बातें
तीर चलाती है अश्को के, तेरे नैनो की बरसाते
हर बूँद में कोई भूली बिसरी यादो का पैगाम हो ,

कहती रही इशारो में, न लायी राज जुबान पर
कैसे भला करे भरोसा, ऐसी आँखों के बयान पर
हर गुस्ताखी माफ़ इन्हे, चाहे कितने इल्जाम हो

चुपचाप संजो कर सपनो को, तड़के  नींद से जगती है
उमंगो का जाल बिछा कर, बड़े प्यार से ठगती है
लेकिन इनकी सच्चाई के आगे छोटा हर दाम हो

शर्माती है तारीफें सुन के, कभी चढ़ता इनका पारा है
कभी देखती है रौनके,कभी खुद ही एक नज़ारा है
है मंजूर कैद अब इनकी,चाहे चर्चा सरेआम हो

 

Parul Singhal – India – (1984 - )

Singhal. P (2018) Transforming Together: Movement Beyond Boundaries: Translated by Scanlon. D.  The Foolish Poet Press, Wilmslow, England. THOSE EYES! TO DIE WITHOUT…... Page Number 9.

Talking together our relaxing words relate,
Eyes speak with a new meaning flowing.

Gripped from a distance by smiling eyes
Invites closeness between our eyelid-curtains;
Each blink transforms dusk to dawn.

Dancing with our musical joys and pains
Allows soul joining and shared emotional tasting;
Dare we stay in emotions gaze or lose our game.

When eye lightning strikes at our heart
Newly touched eyes will throw arrows of tears;
Each tear drop carrying revealed memories.

Everyday talk rarely reveals these secrets
Never noticing the poetic moments ever present;
Forgive the innocent for their naive games,

Those who hide dreams in the living space,
Spreading rumours of a new beginning each day;
The cost is the hidden truth dormant within.

Embrace feelings of boiling anger and shame
Enjoy the new place emerging it paints in new colours;
Accept imprisonment of our eyes, let meaning flow.

Listening together we relax in our relating,
Souls speak with our poetic moments flowing.

David Scanlon – England – (1963 – )

Print Friendly, PDF & Email
This entry was posted in David Scanlon (Translations), Parul Singhal, Poetry, Translation and tagged , , , , , . Bookmark the permalink.